अग्नि मुद्रा


अग्नि मुद्रा

 Agni mudra


अपने दोनों हाथों के अंगूठों को आपस में एकसाथ मिलाने से अग्निमुद्रा बनती है। लेकिन हाथों की बाकी सारी उंगलियां खुली होनी चाहिए।मुद्रा बनाने का तरीका-

          अपने दोनों हाथों के अंगूठों को आपस में एकसाथ मिलाने से अग्निमुद्रा बनती है। लेकिन हाथों की बाकी सारी उंगलियां खुली होनी चाहिए।

लाभकारी-

          अग्निमुद्रा को करने से बलगम, खांसी, पुराना जुकाम, नजला, सांस का रोग, ज्यादा ठंड लगना तथा निमोनिया आदि रोग दूर हो जाते हैं तथा इससे शरीर में अग्नि की मात्रा तेज हो जाती है।