Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

कैसे करें मेकअप


कैसे करें मेकअप

How to make up


सुंदर दिखने की कला और सौंदर्य प्रसाधन :

परिचय-

          कोई भी स्त्री जिसके नाक-नक्श अच्छे न हो और वह देखने में भी आकर्षक न लगे लेकिन उसने अपने चेहरे पर बहुत अच्छी तरह से मेकअप किया हो वह किसी के भी दिल में उतर सकती है। अच्छी तरह से मेकअप करने से चेहरे पर जितने भी दाग-धब्बे होते हैं वें छुप जाते हैं। यहां ये बात जानना बहुत जरूरी है कि बहुत कम लोग पूरी तरह सुन्दरता लेकर पैदा होते हैं। ज्यादातर लोगों में कुछ अच्छे और कुछ बुरे गुण होते हैं और जो लोग ये जानते हैं कि बुरे गुणों पर किस प्रकार पर्दा डालना है वे ही लोग सौन्दर्य प्रतियोगिता में जीतते हैं।

          मेकअप के द्वारा बुरी से बुरी स्त्री को भी आकर्षक बनाया जा सकता है और इसी मेकअप से लड़की किसी भी लड़के को अपनी ओर आकर्षित कर सकती है। आजकल तो लड़कियां थोड़ी सी बड़ी होते ही मेकअप करने के प्रति कुछ ज्यादा ही आकर्षित हो जाती है। वे मेकअप के नए-नए तरीके अपनाती रहती है तथा सबसे ज्यादा सुन्दर दिखने के लिए पूरी कोशिश करती है। जो लड़कियां शुरू से ही सुन्दर होती है उनकी बात तो अलग है पर साधारण नैन-नक्श वाली लड़कियां भी मेकअप की मदद से खूबसूरत बन सकती है।

अगर आप लोग भी अपनी सुन्दरता को बढ़ाने चाहते हैं तो इन बातों का पालन करना बहुत जरूरी है-

फाउण्डेशन-  किसी भी स्त्री की त्वचा चाहे कैसी भी हो जैसे-रूखी त्वचा, तेलीय या मिलीजुली त्वचा, उसके लिये फाउण्डेशन मौजूद है।

  • रूखी त्वचा के लिये तरल क्रीमी फाउण्डेशन मौजूद है जिसमें त्वचा को सूखने से बचाने के लिये ज्यादा मॉश्चराइजर होता है।
  • सामान्य त्वचा पर लगाने के लिये तरल या क्रीमी दोनों ही तरह के फाउण्डेशन काम मे आते हैं।
  • तैलीय त्वचा के लिये बिना चिकनाई वाले दोनों ही फाउण्डेशन चलते हैं। ऐसी त्वचा के लिये बिना चिकनाई वाला फाउण्डेशन केक और मिलीजुली त्वचा पर साधारण या जो तेंलीय त्वचा पर लगाते है वो ही फाउण्डेशन लगाएं। अगर आपने पहले ही फाउण्डेशन ले लिया है तो फाउण्डेशन लगाने से पहले गालों के ऊपर मॉश्चराइजर लगाएं। बिल्कुल साफ-सुथरी और हल्की मॉश्चराइज युक्त त्वचा पर फाउण्डेशन लगाएं। फाउण्डेशन हमेशा अपनी त्वचा के रंग का या उससे गहरे रंग का ही लें। थोड़ा सा फाउण्डेशन अपने माथे, नाक, ठोड़ी और गर्दन के सामने और पीछे के हिस्से और कानों पर लगाएं। ऊपर की ओर तथा बाहर की ओर, पूरे चेहरे और जबड़े के अन्दर की तरफ, कानों के पीछे, पलकों के ऊपर और मुंह के चारों ओर सहलाते हुए फाउण्डेशन को फैला लें। फिर चेहरे और गर्दन के सारे हिस्सों पर फैला दें। फाउण्डेशन को लगाने की मुख्य जरूरत कोमलता ओर पारदर्शिता प्राप्त करने के लिए है ताकि आपकी त्वचा सुन्दर और अच्छी लगे।

पाउडर- पाउडर को 2 तरह से इस्तेमाल में लाया जाता है पहला मेकअप की चमक रहित सजावट को लगातार टिकाए रखने के लिए और दूसरा अवशोषण और चमक को दिनभर बनाए रखने के लिए। लूज पाउडर मेकअप को टिकाए रखने के लिए सबसे अच्छा है। 1 बड़े साफ पफ या रूई के गोले को पाउडर में डुबोकर हल्के से पूरे चेहरे के ऊपर लगाएं ओर दबाएं। पफ को न तो रगड़े और ना ही फिसलाएं वरना यह आपके कोमलता से लगे फाऊण्डेशन को खराब कर देगा। एक मुलायम ब्रश से फालतू पाउडर को हल्का सा झाड़कर निकाल दें। रंग भी वह ही इस्तेमाल करना चाहिए जो आपके फाउण्डेशन से मेल खाता हो अथवा बेबी पाउडर की तरह रंगहीन हो। रूज लगाने से पहले पाउडर लगाना चाहिए।

रूज-

          रूज अपनी लिपिस्टिक के रंग से ही मिलता-जुलता लेना चाहिए। परन्तु अगर आप उसी रंग का रूज नहीं ले सकती तो लिपिस्टिक का रूज मे प्रयोग कर सकती है। रूज आपकी आंखों और गालों पर चमक लाता है। अपनी उंगलियों के बीच में थोड़ा सा रूज लेकर मसलें और मुस्कराएं, फिर अपनी मुस्कराहट के बीच 3 बिन्दू रूज लगाएं। अपनी गाल की हड्डी के प्राकृतिक घुमाव के साथ अन्दर की ओर नाक की दिशा में आंख की पुतली की तरफ एक लकीर में फैलाते हुए लगाएं जबकि आप बिल्कुल सीधा देख रही हो। बाहर का हिस्सा बराबर करते हुए ऊपर की ओर हल्का करते हुए वहां तक लगाना चाहिए जहां कि वह निचली पलकों के कोनों को लगभग छूने लगे। सारे किनारों को अंगुलियों के पोर से इस तरह मिलाया जाना चाहिए कि वह फाउण्डेशन के रंग में मिल जाए। रूज को हमेशा कोमलता से लगाया जाना चाहिए। रूज को एकदम ही बहुत ज्यादा इस्तेमाल करके बुरा दिखाई देने से अच्छा है कि आप रूज का इस्तेमाल ही न करें।

ठोड़ी-

  • दोहरी ठोड़ी- ठोड़ी पर साधारण से रंग का फाऊण्डेशन लगाएं, इसके बाद हल्का सा शेड लेकर ठोड़ी के बाहरी हिस्से पर और ठोड़ी के चारो ओर लगा लें।
  • ढलवा ठोड़ी- ठोड़ी पर हल्का सा फाऊंण्डेशन लगा लें। इसके बाद नीचे के होंठ से थोड़े नीचे ठोड़ी मे जो गडढा सा होता है उस पर फाउण्डेशन से पतली सी रेखा बना लें और अच्छी तरह मिला लें। इसके बाद चेहरे पर हल्के शेड का पाउडर लगाएं।
  • बाहर निकली हुई ठोड़ी- बाहर निकली हुई ठोड़ी पर गहरा सा फाउण्डेशन लगा लें। पाउडर का ‘शेड बराबर ही लें।
  • तीखी ठोड़ी- ठोड़ी की नोक के चारों ओर हल्का सा फाउण्डेशन लगा लें। बाकी चेहरे पर लगाए जाने वाले पाऊडर से हल्का पाऊडर लगाएं।

फटे होंठ-

  • होठों पर लिपिस्टिक लगाने से पहले एक मुलायम से तौलिए से होठों की फटी हुई त्वचा को बाहर निकाल दें तथा होठों पर थोड़ी सी कोल्ड-क्रीम या वैसलीन मल लें। फटे हुए और सूखे होठों को मुलायम बनाने के लिए होठों पर हमेशा लिप-ग्लॉस लगानी चाहिए।
  • नीचे के होंठ पर ऊपर का होंठ चढ़ा हो- नीचे के होंठ की थोड़ी सी लंबाई और चौड़ाई को लिप्सटिक से बढ़ाएं। लिपिस्टिक को ऊपर के होंठ के लटके किनारों में भरें और इसके बाद आकार में भरें।
  • ऊपर का होंठ बहुत पतला होना- ऊपर के होंठ के बाहर की तरफ लिपिस्टिक से एक नई लाईन खींचकर होंठों को बड़ा बनाया जा सकता है। नीचे वाले होंठ पर भी ऐसा ही करें।
  • सूखे होंठ- होंठों पर लिपिस्टिक लगाने से पहले थोड़ा सी कोल्ड क्रीम या वैसलीन लगा लें। इससे होंठ नर्म और चमकीले रहते हैं।
  • लटके होंठ- लटके हुए होंठों को सुन्दर बनानें के लिए लिपिस्टिक से होंठों के कोनों पर बिल्कुल सीधी रेखा खींचे।
  • छोटे होंठ- लिप्सटिक से दोनों होठों के किनारों को बढ़ाएं।
  • पतले होंठ- अगर आपके होंठ बहुत ज्यादा पतले हैं तो ऊपर के होंठ को रेखा से थोड़ा ऊपर बढ़ाया जा सकता है। नीचे के होंठ का आकार सुधारने के लिए प्राकृतिक रेखा से थोड़ा नीचे की ओर बढ़ाएं। नीचे वाला होंठ भरा हुआ और अच्छे आकार मे लगना चाहिए।
  • मोटे होंठ- होंठों की प्राकृतिक रेखा के अन्दर ही लिप्सटिक भरकर और बचे हुए स्थान पर फाउण्डेशन क्रीम लगाकर होंठों को पतला दिखाया जा सकता है।
  • लिपिस्टिक- होठों को सुन्दर बनाने के लिए उन पर लिपिस्टिक लगायी जाती है पर लिपिस्टिक तभी अच्छी लगती है जब उसको सही तरीके से लगाया गया हो। इसके लिए आपको लिप-ब्रश का सही ढंग से इस्तेमाल करना आना चाहिए। इसके बिना आप अपने होठों को सही आकार नहीं दे सकती। आपकी लगाई जाने वाली लिपिस्टिक का रंग आपके पहने हुए कपड़ों के रंग से मिलता हुआ होना चाहिए। भूरे, पीले और हरे रंग के कपड़ों के साथ लाल रंग की लिपिस्टिक अच्छी लगती है। लिपिस्टिक के पेस्टल रंग, हल्के शेड गुलाबी रंग के साथ बहुत अच्छे लगते हैं। हर महिला को लिपिस्टिक के कम से कम 3 शेड तो रखने ही चाहिए ताकि आप जो रंग पहने वे उनमे मैच कर जाए। लिपिस्टिक के ज्यादा गहरे शेड लगाने से उम्र ज्यादा लगती है इसलिए कभी भी ज्यादा गहरे रंग के शेड न खरीदें। एक अच्छा शेड आपको जवान ओर आकर्षक दिखा सकता है।

आंखों का मेकअप-

          किसी भी स्त्री की आंखों को बहुत आकर्षक बनाया जा सकता है पर शर्त यह है कि आप जानते हो कि उन्हे खूबसूरत कैसे बनाया जाए। आंखों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए जरूरी है सबसे पहले भौंहों को सही आकार देना। भौंहों को सही आकार देने के लिए फालतू बालों को खींचकर निकाल लें। भौंहों के फालतू बालों को चिमटी से उखाड़ना या धागे से निकालना सबसे पुराना और अच्छा तरीका है। इसकी शुरूआत करने से पहले रूई का टुकड़ा यू. डी. कोलोन या एस्ट्रीजेंट लोशन में डुबोकर भौंहों पर लगाएं और थपथपाएं। इसके बाद अपनी चिमटी लें और आसपास की त्वचा को कसकर रखें। चिमटी से बालों को बिल्कुल जड़ के पास से पकड़ें और जहां पर बाल उगते हैं वहां की दिशा में कसकर झटका दें। हमेशा असली भौंहों के नीचे की ओर से बाल खींचकर निकालें न कि ऊपर की ओर से। नाक की हड्डी के ऊपर दोनों भौंहों के बीच में जो बाल उगते हैं वे देखने में अच्छे नहीं लगते।

          ऐसे बालों को दोनों भौंहों के बीच से निकाल दें। याद रखना चाहिए कि सबसे सुन्दर आंखे वही मानी जाती है जिनके बीच में काफी जगह हो जाती है और यह जगह इतनी हो जाती है कि इन दोनों आंखों के बीच में एक और आंख रखी जा सके। प्लकिंग के बाद त्वचा पर आने वाली सूजन से बचाव के लिए एक बर्फ का क्यूब, कपड़े के टुकड़े में लपेटें और कोमलता से उस स्थान पर फेरें और मालिश करें। 1 सजे हुए अनुकूल रूप के लिए हर दूसरे दिन प्लीकिंग की जानी चाहिए। फिर भी अगर चिमटी की पकड़ में आने में बाल बहुत ज्यादा छोटे हों तो इनको छुपाने के लिए थोड़ा सा फाउण्डेशन उस स्थान पर लगाएं और अच्छी तरह से त्वचा में मिलाएं। ब्लीचिंग भी ऐसे बालों को छुपाने में सहायक होती है।

आंखों का मेकअप करने की विधि-

  • पास-पास स्थित आंखें- आंखों की पलक के ऊपर आई-शैडो लगाएं और आंख के बाहर के कोने की ओर ऊपरी तथा बाहरी शैडो को तब तक मिलाएं जब तक कि शैडो नाक और आंख के स्थान पर ज्यादा हल्का न हो जाए और बाहर के कोनो पर गहरा रहे। इसके बाद आई-ब्रो पेंसिल से आंख के अन्दर के कोने से दूर एक रेखा खींचे और बाहरी कोने तक इसे विस्तार दें। दोनों रेखाओं को इस तरह मिलाएं कि शैडो की तरह यह अन्दर के कोनो पर हल्की और बाहर के कोनों पर गहरी हो। दोनों भौंहों में ट्वीजिंग से दूरी बढ़ाएं ताकि उनमें बड़ा अन्तर लगे।
  • अन्दर धंसी हुई आंखें- आंखों की ऊपर की पलकों के कोटरों के ठीक ऊपर हल्के रंग का फाउण्डेशन लगाएं और फाउण्डेशन के रंग में मिलाएं। आई-शैडों का इस्तेमाल न करें क्योंकि इसको लगाने से अन्दर धंसी हुई आंखें और अन्दर लगेगी।
  • ढलकी आंखें- आई-लाईनर को आंखों के ऊपर और बाहर की ओर झुकाव देकर उठा हुआ दिखा सकते हैं। शैडो को ऊपर की ओर लगाना चाहिए और आंखों के बाहरी कोने वाले स्थान से बचना चाहिए।
  • गोल आंखें- आई-शैडों को आंखों के बाहर के कोने तक बढ़ाकर आंखों को बड़ा दिखाया जा सकता है।
  • फूली आंख- आंखों के ऊपर गहरे शैड का प्रयोग करना चाहिए और ऊपर की पलक के खास हिस्से के ऊपर ध्यान से लगाना चाहिए। भौंहों की रेखा तक इसे हल्के से ले जाएं।
  • छोटी आंखें- छोटी आंखों पर 2 प्रकार के शैडों का इस्तेमाल करके इन्हे बड़ा दिखाया जा सकता है। आंखों की पलकों के आसपास भूरे रंग के शैडों का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • आंखों के नीचे के गड्ढे- बिना फेंटे अण्डे की सफेदी के बिल्कुल पतली परत उंगलियों की सहायता से आंखों के नीचे के गड्ढे में लगाने चाहिए। फिर इसे सूखने दें और इसके बाद मेकअप फाउण्डेशन को इसके ऊपर बहुत ध्यान से लगाएं। आंखों के नीचे की लकीरों वाले स्थान पर अण्डे की सफेदी के सूखने वाले प्रभाव के कारण अस्थायी रुप से भर जाएगा। परन्तु अण्डे की सफेदी को हटाने के बाद इस स्थान पर तेल जरूर लगाना चाहिए क्योंकि अण्डे की सफेदी त्वचा पर लगाने से सूखापन लाती है। इसको 3 घंटे से ज्यादा त्वचा पर नहीं लगाना चाहिए।
  • आंखों के नीचे कालापन- अपने सामान्य मेकअप में हल्के फाउण्डेशन का उपयोग करके आंखों के नीचे के कालेपन को छुपाना चाहिये।

आई-शैडो-

          आंखों मे आई-शैडो लगाने से उनमें गहराई और सुन्दरता सी आ जाती है। आंखों पर आई-शैडो तब बहुत अच्छा लगता है जब वह पहने हुए कपड़े की मैचिंग का ही हो। दिन के समय आई-शैडो हमेशा हल्के रंग का ही लगाना चाहिए। शाम के समय लाइटों की रोशनी रंगो को मुलायम बनाती है तब गाढ़े रंग का इस्तेमाल करें क्योंकि इससे आई-शैडो के लिए एक अच्छा आधार बनता है। आई-शैडो को सिर्फ आंखों की ऊपर की पलक के ऊपर ही लगाना चाहिए। एक आंख को बन्द करके उसके पास थोड़ा सा रंग लगाए और ऊपर की पलक को लगभग छूते हुए आंख के अन्दर की ओर से बाहर के कोने तक लगाएं। आई-शैडों को ऊपर की ओर हल्का होता हुआ भौंहो के नीचे ब्रश या तर्जनी उंगली से मिलाना चाहिए। आई-शैडो पलक के पास सबसे ज्यादा गहरे शेड का होना चाहिए। इसके लिए 2 शेडो का इस्तेमाल किया जा सकता है पहला- गहरे रंग के शेड को पलकों के बिल्कुल पास लगाना चाहिए। यह आंखों को बहुत ज्यादा चमक देता है।

चेहरा-

लंबा संकीर्ण चेहरा- रूज को गाल की हड्डी के पीछे से बालों की रेखा तक एक लगभग सीधी रेखा में लगा लें। यह समतल प्रभाव को पैदा करके चेहरे की चौड़ाई को बढ़ाएगा। रूज को नाक के पास तक न ले जाए अन्यथा चौड़ाई का असर खत्म हो जाएगा।

चौकोर चेहरा- अगर रूज को गाल की हड्डी के ओर लंबे त्रिकोण में फैलाया जाए तो यह अण्डाकार आकार का प्रभाव देगा।

खोखले गाल- रूज को गड्ढे में लगाने की अपेक्षा अगर गड्ढे के बाहर लगाया जाए तो गाल फूले और गोल से लगेंगे। यह क्रिया गड्डे में पड़ने वाली प्राकृतिक छाया को प्रभावहीन कर देती है और उन्हे फूला और गोल दिखाती है।

गोल चेहरा- नाक के पास रूज को बहुत ही अच्छी तरह रखें। आंख के ऊपर के कोने की ओर साफ लंबे कोण मे मिलाएं जिससे कि चेहरा लंबा सा लगे।

अण्डाकार चेहरा- आंखों के नीचे गाल की हड्डी की लंबाई में रूज से एक बिन्दू सी लगा लें। इसे ऊपर और बाहर की तरफ मिलाएं, जब तक कि चौड़ाई पूरी तरह से गायब न हो जाए।

9. कान-

  • बड़े कानों के ऊपर गाढ़ा सा फाउण्डेशन लगा लें ताकि कान पूरी तरह से न दिखाई दें। फिर चौड़े कर्णफूल पहन लें जो आपके कान की लौ को पकड़कर उन्हे ढक दें।

10. माथा-

चौड़ा माथा- गाढ़े से फाउण्डेशन को पलकों के ऊपर, नाक के ऊपर के हिस्से पर और बिल्कुल गाल की हड्डी के नीचे लगाएं। इससे बाकी चेहरा कुछ भरा-भरा सा महसूस होगा।

छोटा माथा- माथे पर थोड़ा सा फाउण्डेशन लगा लें। इससे भौंहों और बालों की रेखा के बीच का अन्तर थोड़ा ज्यादा दिखाई देगा।

11. नाक-

चौड़ी नाक-  चौड़ी नाक को पतला दिखाने के लिए गाढ़े फाउण्डेशन को नाक पर लगाएं। नाक के नथुनों के ऊपर नाक की हड्डी की दिशा मे मिला लें। बाकी चेहरे पर लगाए जाने वाले पाउडर से एक शेड गहरा पाउडर नाक पर लगाएं।

लंबी नाक- सबसे पहले नाक पर सामान्य फाउण्डेशन लगा लें। फिर गहरा फाउण्डेशन नाक के सिरे पर लगाएं और ऊपर की ओर मिलाते हुए नाक के आगे के भाग पर समाप्त करें।

पतली नाक-  नाक के नथुनों से नाक की हड्डी की ओर ऊपर और नीचे की ओर गति करते हुए सामान्य फाउण्डेशन लगा लें। बाकी चेहरे पर लगाए जाने वाले पाउडर से एक शेड हल्का फाउण्डेशन नाक पर लगा लें।

सपाट नाक-  नाक पर सामान्य फाउण्डेशन लगाने के बाद हल्के रंग का फाउण्डेशन नाक के बिल्कुल सीधा, नाक की हड्डी के ठीक ऊपर तक और नाक के आगे के भाग के ठीक नीचे तक लगाएं। फिर सामान्य पाउडर लगा लें।

12. गर्दन-

छोटी और मोटी गर्दन- चेहरे पर लगाने वाले फाउण्डेशन से ज्यादा गहरा फाउण्डेशन गर्दन पर लगा लें ताकि गर्दन देखने मे पतली नजर आए।

लंबी और पतली गर्दन- चेहरे पर लगाने वाले फाउण्डेशन से हल्का फाउण्डेशन गर्दन पर लगा लें। इससे गर्दन में भराव सा लगता है जिससे गर्दन ज्यादा पतली नजर नहीं आती।

13. चकत्ते- चकत्तों को कम करने के लिए और अपने चेहरे को क्रीमी लुक देने के लिए असली रंग से थोड़ा हल्के रंग के फाउण्डेशन का इस्तेमाल करें। इसके बाद साधारण फेस पाउडर को चेहरे पर लगाएं।

14. उम्र की लकीरे-  चेहरे पर उम्र की लकीरें और झुर्रियों को छिपाने के लिए फाउण्डेशन क्रीम को एक ही रूप से बाहरी और गोलाई में चलाते हुए त्वचा पर लगाएं।

15. मुंहासे और दाग-धब्बे-  अगर आपके चेहरे पर मुहांसे या दाग धब्बे निकल आए हों तो बाकी चेहरे पर लगाए जाने वाले रंग से एक रंग गहरा रंग लगाकर छुपाएं। इस स्थान पर यह रंग लगाएं और किनारों की तरफ बाकी फाउण्डेशन में मिला लें। इसके बाद चेहरे पर सामान्य फाउण्डेशन लगा लें।

16. थका हुआ चेहरा- अपने माथे के बीच में हल्का सा रूज, लगाने से आपके चेहरे की थकान दूर हो जाती है।

17. झुर्रियों से बचाव-

  • बुढ़ापे मे हर व्यक्ति की त्वचा मुरझा जाती है तथा उस पर झुर्रियां पड़ जाती है परन्तु थोड़ी सी सावधानी रखें तो चेहरे पर पड़ने वाली झुर्रियों को कम किया जा सकता है तथा काफी लंबे समय तक अपनी त्वचा को चिकनी और जवान बनाकर रखा जा सकता है। चेहरे पर झुर्रियां पड़ने का कारण रूखी त्वचा होती है। रूखी त्वचा को चिकनी बनाने के लिए सबसे पहले अपने भोजन की आदत को सुधारें। अपने रोजाना करने वाले भोजन में 1 बड़ा चम्मच मक्खन, घी या तेल जरूर लें। इसके अलावा रोजाना विटामिन `ए´ और विटामिन `ई´ की टेबलेट भी जरूर खाएं। चेहरे की रूखी और झुर्रियों वाले स्थान पर विटामिन `ई´ के कैप्सूल को तोड़कर लगा लें।
  • ये झुर्रियों पर बहुत असरदार काम करता है। अच्छा भोजन लेने के अलावा, चेहरे को साबुन और पानी से धोने के स्थान पर दूध और क्लिंजिंग मिल्क से साफ करें। 3 बड़े चम्मच दूध को 1 बड़े चम्मच अपनी पसन्द के तेल के साथ गर्म कर लें। फिर उसमे रूई को भिगोकर अपने चेहरे और गर्दन को इससे साफ कर लें। यह किसी क्लिंजिंग क्रीम से ज्यादा अच्छी तरह त्वचा की गन्दगी को साफ करता है। फिर अपने चेहरे को धो लें तथा त्वचा की नमी को सुरक्षित रखने के लिए उस पर हल्का सा तेल लगा लें।
  • अगर आपके शरीर में विटामिन `ए´ की कमी हो और रूखी त्वचा के अलावा आपके पैर और बांहों पर लटका हुआ मांस हो जो कि हटता नहीं है तो इसके लिए 1 काम करें कि 1 से 2 सप्ताह तक हर दिन 2500 से 500 यूनिट विटामिन `ए´ लें। इससे रूखी और पपड़ीदार त्वचा को कुछ ही दिनों मे मुलायम और सुन्दर बनाया जा सकता है। सूरज की रोशनी मे ज्यादा देर तक नहीं बैठना चाहिए क्योंकि इससे त्वचा मे रूखापन आ जाता है।
  • अच्छे भोजन और त्वचा की देखभाल के अलावा चेहरे की मांसपेशियों का व्यायाम भी करने से लाभ होता है।

मेकअप करने के लिए कुछ आवश्यक जानकारी-

  • होठों की लिपिस्टिक को छिपाने के लिए क्लीजिंग मिल्क में रूई को भिगोकर उससे साफ कर लें। आंखों का मेकअप करने के लिए थोड़ी सी क्रीम लगाकर रूई से साफ कर दें। अगर लिपिस्टिक लगाने के थोड़ी देर बाद साफ हो जाती है या फैल जाती है तो होठों पर फाउण्डेशन लगाकर उसके ऊपर टैलकम पाउडर छिड़क दें। फिर 10 मिनट लिपिस्टिक लगाएं। इससे लिपिस्टिक अधिक समय तक टिकी रहती है।
  • पलकों पर हल्का सा कॉम्पैक्ट लगा लें। इसके बाद मस्कारा लगा लें। पलकें आपस में चिपकनी नहीं चाहिए।
  • रात को सोते समय आंखों में काजल लगा लेना चाहिए। सुबह उठकर साबुन या फेशवॉश से चेहरे को धो लें। इससे आपकी आंखों में बहुत ही अलग तरह की खूबसूरती दिखाई देगी। हल्की और छोटी भौंहों के लिए सोने से पहले गाढ़ी-गाढ़ी आई-ब्रो पेंसिल फिरा दें। फिर सुबह मुंह धो लें। कुछ ही दिनों में भौंहे काली हो जाएगी।
  • रूज लगाते समय हमेशा चेहरे पर हंसी रहनी चाहिए। इससे रूज सही स्थान पर लगता है।
  • परफ्यूम को अन्दर के कपड़ों, बगल और कानों के पीछे लगाना चाहिए इससे उसकी खुशबू ज्यादा देर तक आती रहती है।
  • तेलीय त्वचा पर करा हुआ मेकअप ज्यादा समय तक नहीं टिकता। इसके लिए मेकअप करने से पहले चेहरे पर थोड़ी सी बर्फ रगड़े।
  • आंखों के नीचे मस्कारा लगाते समय थोड़ी सी रूई रख लें। इससे मस्कारें के निशान चेहरे के आसपास की त्वचा पर नहीं पड़ेंगे। अपनी त्वचा से मेल खाता हुआ एक शेड गहरा फाउण्डेशन और कॉम्पैक्ट इस्तेमाल करें।
  • अगर आपके होंठ काले पड़ गए हों तो लाल गुलाब की पंखुड़ियों को दूध में पीसकर रोजाना होठों पर लगाएं। कटी-फटी और दाग-धब्बे वाली त्वचा को छिपाने के लिए इस पर मेकअप से पहले इरेज-स्टिक अथवा पेन केक का इस्तेमाल करना चाहिए।
  • अगर आपके गाल अन्दर की ओर घुसे हुए हों तो उन पर हल्का सा शेड दें और उसकी आसपास की त्वचा पर गहरे रंग का इस्तेमाल करें।
  • होठों पर लिपिस्टिक लगाने से पहले ब्रश की सहायता से आउटलाइन बना ले, फिर लिपिस्टिक लगाएं। ब्रश के स्थान पर पेंसिल का भी इस्तेमाल कर सकती है। किन्तु पेंसिल लिपिस्टिक के रंग से मिलती हुई होनी चाहिए।
  • अगर आप कहीं बाहर जा रहे हैं और आपका चेहरा कुछ ज्यादा ही चिकना सा लग रहा हो तो चेहरे पर लगभग 30 मिनट के लिए खीरे का रस लगाकर चेहरे को धो लें। इससे चेहरे का तेलीयपन कम हो जाएगा।
  • थ्रेडिंग करते ही तुरन्त ब्लीच नहीं करानी चाहिए क्योंकि इससे चेहरे पर उल्टा असर पड़ सकता है।
  • मेकअप करने से कुछ देर पहले चेहरे को क्लींजिंग मिल्क से साफ कर लें। क्लींजिंग मिल्क लगाने वाली रूई को गीला कर लें नहीं तो सूखी रूई में ज्यादा क्लींजिंग मिल्क का इस्तेमाल करना पड़ेगा क्योंकि यह उसे सोख लेता है।
  • अगर आपकी नाक ज्यादा मोटी या चौड़ी है तो उसे पतला दिखाने के लिए नाक के ऊपरी हिस्से पर त्वचा के रंग से एक शेड हल्का तथा नाक की दोनों तरफ त्वचा के रंग से एक शेड गहरा फाउण्डेशन इस्तेमाल करें।
  • गीले स्पंज से फाउण्डेशन को चेहरे पर लगा लें। चेहरे पर बिन्दु से बना दें। अब स्पंज की सहायता से एकसार कर लें।
  • ड्रायर का इस्तेमाल करते समय बालों में ड्रायर में 8 से 10 इंच की दूरी होनी चाहिए। एक ही स्थान पर ड्रायर को 5 से 7 मिनट से ज्यादा नहीं रखना चाहिए। इससे सिर की त्वचा और बालों पर बुरा असर पड़ता है।
  • आई-लाइनर इस्तेमाल करते समय यह देख लेना चाहिए कि वह ज्यादा लचीला या मुलायम न हो। लाइनर का ब्रश पतला और नोकदार होना चाहिए।
  • अगर आप खुद ही भौंहों के बाल निकालना चाहती है तो प्लकर या थ्रेड का इस्तेमाल करते समय भौंहों पर थोड़ा सा पाउडर छिड़क लें क्योंकि ऐसा करने से दर्द कम होता है।
  • रूखी त्वचा पर मेकअप से पहले फाउण्डेशन के स्थान पर मॉश्चराइजर लगा लें। वैक्सिंग करने के बाद उस जगह पर बर्फ मलकर एस्ट्रेजेंट लोशन लगा दें। इससे त्वचा की जलन समाप्त हो जाती है और त्वचा पर एलर्जी और दाने होने का खतरा भी नहीं रह जाता।
  • धूप में निकलते समय चेहरे को काला पड़ने से बचाने के लिए उस पर संसक्रीम लोशन या क्रीम जरूर लगा लेनी चाहिए।

Tags: foundation, powder, lipstick, jhuriyon se bachav, muhanse aur daag-dhabbe, chota maatha, choda maatha