Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

झुर्रियां


झुर्रियां

Wrinkles


मसाज से रोगों का उपचार :

परिचय-

        साधारणता: चेहरे पर झुर्रियों का आना शारीरिक कमजोरी और बुढ़ापे का लक्षण माना जाता है। इसलिए चाहिए कि चेहरे की त्वचा की अच्छी तरह से देखभाल की जाए, खान-पान के प्रति सजगता बरती जाए, अधिक मसालेदार और मीठी चीजों से बचा जाए और पेट साफ रखने की कोशिश की जाए तो बुढ़ापे तक स्त्री-पुरुषों के चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती हैं।

कारण-

          प्रकृति ने स्त्री और पुरुष का शरीर ऐसा बनाया है कि वह स्वाभाविक ढंग से अनेक दोषों से बचा रहता है परन्तु यह तभी सम्भव होता है जब मनुष्य-जीवन एक स्वाभाविक प्रक्रिया के अनुरूप चलता रहे। जब वह अपने अज्ञान के कारण अस्वाभाविक जीवन अपना लेता है तो उसके शरीर में अनेक विषमताएं पैदा हो जाती हैं। उनमें से एक प्रभाव यह होता है कि चेहरे की सबसे ऊपरी परत पर लकीरें पड़ने लगती हैं। धीरे-धीरे यही स्थायी होकर झुर्रियां बन जाती हैं। इसका कारण यह है कि चेहरे की बाहरी त्वचा नमी को बनाए रखने में असमर्थ रहती है। उसके नीचे की चिकनाई पैदा करने वाले ग्रंथियों के कमजोर पड़ जाने से त्वचा पूरी तरह पुष्ट नहीं हो पाती इसलिए झुर्रियां बढ़ती रहती हैं।

उपचार-

        त्वचा को साफ और आकर्षक बनाने के लिए सबसे पहले चेहरे को रूई के गीले फाहे से साफ करना चाहिए। रूई के टुकड़े को किसी हल्के क्लींजर में भिगोकर चेहरे और गर्दन को साफ करना चाहिए। गर्दन के साथ-साथ कानों का भी ध्यान रखें। चेहरा साफ करने के लिए तेल क्लींजर का उपयोग न करें।

इसके बाद निम्नलिखित उपचार करने चाहिए –

  1. खुबानी, गोभी, गाजर, अंकुरित गेहूं आदि को अच्छी तरह से पीसकर लेप के रूप में चेहरे पर लगाएं। इन सभी चीजों का अलग-अलग प्रयोग भी किया जा सकता है।
  2. फ्रिज में रखे हुए ठण्डे दूध की आधा चम्मच मलाई को बाईं हथेली पर डालकर उसमें नींबू के रस की 4 से 5 बूंदे मिलाकर रख लें। अब उसे दाईं अंगुली से अच्छी तरह से लेप बनाने के बाद धीरे-धीरे झुर्रियों वाले स्थान पर मलें। फिर पूरे चेहरे, माथे और गर्दन पर इस लेप की हल्की मालिश करें।
  3. मलाई लगाने से पहले चेहरे को अच्छी तरह से तौलिए से थपथपाकर सुखा लें। मलाई की मालिश करने के आधा घण्टे बाद स्नान किया जा सकता है। नहाने के बाद चेहरे को अच्छी तरह से सुखाकर जैतून का तेल या बादाम रोगन की कुछ बूंदों की मालिश करें। चेहरे पर मालिश करने का ढंग यह है कि नीचे से ऊपर की ओर अंगुली चलाई जाए। आंखों के निचले भाग की मालिश करने के लिए आंख के नोंक वाले कोने से लेकर बाहर की ओर धीरे-धीरे उंगली चलाएं। इससे आंखों के नीचे की झुर्रियां और लकीरें दूर होने लगती हैं। साथ ही ढीली त्वचा को शक्ति प्राप्त होती है।
  4. माथा चेहरे का आकर्षण पूर्ण केन्द्र होता है। परन्तु आलस्यवश महिलाएं गालों और होठों पर सुर्खी, बिंदियां आदि लगाती हैं, परन्तु माथे की बिल्कुल उपेक्षा कर देती है। माथे की मालिश के लिए नाक के ऊपरी भाग पर जहां दोनों भौहें मिलती हैं, वहां से कनपटियों तक दोनों हाथों की अंगुलियों के पोरों द्वारा ऊपर की ओर चलाते हुए बाहर की ओर ले जाएं। इस प्रकार चेहरे के साथ-साथ माथे की भी हल्की मालिश करना या उबटन यानी लेप लगाना लाभदायक होता है।
  5. सब्जियों और पपीते आदि के गूदे का पतला लेप बनाकर चेहरे पर मास्क के रूप में लगाएं। इसके अलावा इन फलों का गूदा या फल का कोमल भाग चेहरे, गर्दन और माथे आदि पर रगड़ने से भी झुर्रियों में काफी लाभ पहुंचता है।
  6. चेहरे पर झुर्रियां पड़ने का एक सबसे बड़ा कारण शरीर में खून की कमी होना और त्वचा का पूर्ण व्यायाम न होना है। इसलिए खून को बढ़ाने के लिए सबसे अच्छा तरीका हंसना भी है। इसके लिए आपको चाहिए कि ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़े हो जाएं और हंसने की कोशिश करें। पहले धीरे-धीरे हंसे बाद में हंसने की क्रिया में तेजी लाएं। इसके साथ-साथ हथेलियों से बीच-बीच में चेहरे की हल्की मालिश भी करते रहें। हंसने से चेहरे की मांसपेशियों का अच्छा व्यायाम होता है। इसके अलावा फेफड़ों को ताकत मिलती है और चेहरा पहले की अपेक्षा आकर्षक और सुन्दर हो जाता है।
  7. आंखों के नीची की त्वचा को सुन्दर बनाने के लिए खीरे की एक गोल फांक काटें। फिर आंखों को बन्द करके उस पर खीरे की फांक को रखें। कुछ देर तक इसे रखकर लेटी रहें इससे आंखों की रोशनी बढ़ने के साथ-साथ आंखों के नीचे की पतली झुर्रियां समाप्त हो जाती हैं। आंख बन्द करके खीरे के टुकड़े को धीरे-धीरे आंख के आसपास भी मला जा सकता है।
  8. चेहरे की मांसपेशियों को मजबूत बनाने और ताजगी पैदा करने के लिए चेहरे पर उबटन आदि लगाकर कुछ देर बाद साफ कर लें। चेहरे को साफ करते समय मुंह में साफ और ताजा पानी भरकर चेहरे और आंखों पर ठण्डे पानी के छींटे मारें। ऐसा 3-4 बार करने के बाद चेहरे को साफ रोएंदार तौलिए से हल्का-हल्का थपथपाकर साफ करना चाहिए।
  9. दूध की मलाई में गेहूं का आटा मिलाकर चेहरे और आंखों के आस-पास लेप करने से भी झुर्रियां मिट जाती हैं।
  10. चेहरे से झुर्रियों को दूर करने के लिए विटामिन `ई´ का प्रयोग भरपूर मात्रा में करना चाहिए जैसे गाजर में विटामिन `ई´ प्रचूर मात्रा में होता है। दोपहर के बाद गाजर का ताजा रस लगभग आधा गिलास की मात्रा में कुछ दिनों तक पीते रहने से लाभ होता है।
  11. कच्ची सब्जियों के सलाद, फलों के मास्क और भोजन में परिवर्तन करने के अलावा दिन में एक बार अंकुरित अनाज लें। इससे चेहरे की झुर्रियां समाप्त होने के साथ-साथ शरीर में नए बल का संचार होता है।
  12. चने, मूंग और साबुत मसूर को भिगोकर अंकुरित बना लें। इसमें मेथी के दानों के कुछ बीज मिलाने से इसकी शक्ति बढ़ जाती है। उक्त दालों को 4 से 6 घण्टें तक भिगोने के बाद भली प्रकार गीले कपड़े में लपेटकर रख दें। इससे अनाज अंकुरित हो जाएगा। अब इसमें थोड़ा-सा और काला नमक मिलाकर प्रतिदिन चबाकर खाने से चेहरे की झुर्रियां समाप्त हो जाती हैं। इससे शरीर की विटामिन `ई´ की कमी भी पूरी हो जाती है।

Tags: Vitamin 'E', Kala namak, Gajar ka ras, Ankurit anaj, Khoon ki kami