Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

मेरीडियन प्रतिबिम्ब बिन्दु


मेरीडियन प्रतिबिम्ब बिन्दु


ऑल आर्टिकल्स :

Manushy ke sharer men bahut sari meridiance payee jati hai jin par pressure dekar rogon ka ilaj kiya jta hai. मनुष्य के शरीर में 14 मेरीडियन होते हैं। ये 14 मेरीडियन 6-6 मेरीडियन के दो-दो जोड़ों के रूप में होते हैं। इन जोड़ों में से एक दाईं तरफ तथा दूसरा बाईं तरफ होता है तथा दो मेरीडियान स्वतंत्र होते हैं। एक शरीर के आगे की खड़ी बीच वाली रेखा पर दूसरा शरीर के पीछे की खड़ी बीच वाली रेखा पर होता है।

इन 12 जोड़ों में से 6 यिन और 6 यांग मेरीडियन होते हैं।

यिन मेरीडियन पैरों की अंगुलियों तथा शरीर के मध्य भाग से होते हुए सिर की ओर तथा हाथ की अंगुलियों की तरफ ऊपर की ओर जाते हैं।

यंग मेरीडियन सिर, मुंह, हाथ की अंगुलियों से शुरू होकर शरीर के बीच के भाग से होते हुए नीचे की तरफ जाते हैं। किसी भी मेरीडियन के सिरे का एक हिस्सा हाथ, पैर तथा मुंह में और दूसरा हिस्सा किसी एक अंग में होता है।

>>Read More