Error message

  • User warning: The following theme is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: mobilizer. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).
  • User warning: The following module is missing from the file system: global. For information about how to fix this, see the documentation page. in _drupal_trigger_error_with_delayed_logging() (line 1156 of /home/jkheakmr/public_html/hindi/includes/bootstrap.inc).

रोगवृत्त तथा सुग्राह्यता


रोगवृत्त तथा सुग्राह्यता


रोगवृत्त

किसी भी रोग पर चुम्बक चिकित्सा का प्रयोग करने से पहले यह जानने की जरूरत है कि रोगी की किस रोग की चिकित्सा करनी है, रोग किस कारण से हुआ है और अब तक रोग की क्या अवस्था है। फिर रोग के लक्षणों को जानना चाहिए। यह सब जानकरी लेने के बाद रोगी का इलाज करना चाहिए।

        रोग होने का समय, रोग का विभिन्न अंगों से सम्बन्ध, रोग का निश्चित केन्द्र जैसे दर्द कहां हो रहा है तथा यह जानना कि रोग क्रमिक प्रकृति का है ...........

>>Read More

  सुग्राह्यता

यदि हम मानव जीवन के इतिहास के बारे में जानेंगे तो पता चलेगा कि जब मनुष्य स्वस्थ रहता है तो ही उसका जीवन आगे चलता रहता है और कार्य करता रहता है। जब मनुष्य रोग ग्रस्त होता है तो वह जीवित अवश्य रहता है लेकिन कष्ट में। मनुष्य चेतन तथा अचेतन अतिशयोक्ति में अपने आप ही स्वयं ही ज्ञान प्राप्त करता रहता है। इस प्रकार कहा जा सकता है कि सुग्राह्मता चाहे मानसिक हो या शारीरिक, यह  एक राज्य के समान होती है तथा राज्य संगठनों............

>>Read More