Error message

  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Strict warning: Only variables should be passed by reference in fancy_login_page_alter() (line 109 of /home/jkheakmr/public_html/main/sites/all/modules/fancy_login/fancy_login.module).

Quotes

Health quotes :

In ladkiyon se dil lgana ek bhool hai,

In ladkiyon ke bichhe itana bhagana phijul hai,

Jis din kisi lakaki ne kah diya ‘I Love You’ to samajh jana Us din APRIL FOOL  hai.

उस ने कहां राम चलो बाग में तोड़ते हैं फुल,

....

ले गई रेगिस्तान में और बोली APRIL PHOOL

हम सब हर 1 अप्रैल को अप्रैल फूल्स डे मनाते हैं, इस दिन लोग एक दूसरे को मूर्ख बनाने की कोशिश करते हैं और व्यावहारिक चुटकुले के करने के साथ लोगों तथा दोस्तों को हंसाते हैं। यह कोई पारंपरिक भारतीय त्योहार नहीं है बल्कि यह भी वेलेंटाइन दिवस या कुछ अन्य त्योहार जो कि पश्चिमी संस्कृति के देशों में खुब जोरों से मनाया जाता है उस से ली गई है।

नवरात्रि दूसरा दिन माता ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि
“दधना कर पद्याभ्यांक्षमाला कमण्डलम।
देवी प्रसीदमयी ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥“

श्री दुर्गा का द्वितीय रूप श्री ब्रह्मचारिणी हैं। यहां ब्रह्मचारिणी का तात्पर्य तपश्चारिणी है। इन्होंने भगवान शंकर को पति रूप से प्राप्त करने के लिए कठिन तपस्या की थी। अतः ये तपश्चारिणी और ब्रह्मचारिणी के नाम से प्रसिद्ध हैं। नवरात्रि के दूसरे दिन इनकी आराधना और पूजा की जाती है।

माता दुर्गा के नौरूप हैं। इनमें सबसे पहला रूप श्री शैलपुत्री है। हमारी यह मां पर्वतराज हिमालय की पुत्री हैं। इसी के कारण इनको शैलपुत्री के नाम से जाना जाता है। नवरात्रि के पहले दिन इनकी आराधना और पूजा की जाती है। इनकी आराधना करने वाले प्राणियों की सभी इच्छाएं पूरी होती हैं।
 


Important Links: Lemon | Mango | Marigold | Onion

Important Links:  Diabetes | Hair fall | Almond | Ging

  Mat fenk  pathar pani  men use bhi koi peeta  hai,
Mat raho yoono udas  jindagi men,  tumhen Dakh kar bhi koi jita hai
,

Aaj insan hi  insan ko das raha hai,  
Saap,
Ghar ke kone men beatha has  raha hai, 

Jivan ka sab se beda  upyoga,

Ise kisi Asi  cheej men  lagane men,

hai jo iske bad bhi rahe,

Pages