Error message

  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Warning: Illegal string offset 'field' in DatabaseCondition->__clone() (line 1818 of /home/jkheakmr/public_html/main/includes/database/query.inc).
  • Strict warning: Only variables should be passed by reference in fancy_login_page_alter() (line 109 of /home/jkheakmr/public_html/main/sites/all/modules/fancy_login/fancy_login.module).

Ayurvedic-tips

Natural Remedies :

1.शीत, मस्तक-शूल और चौथिया ज्वर (बुखार) : अगस्त के पत्तों के रस की बूंदे नाक में डालने से शीत, मस्तक दर्द और चौथिया के बुखार में आराम होगा।
2.आधाशीशी (आधे सिर का दर्द) पर : इस रोग में जिस ओर सिर में दर्द होता हो, उसके दूसरी तरफ की नाक में अगस्त के फूलों अथवा पत्तों की 2-3 बूंदे रस को टपकाने से तुरंत लाभ होता है। इससे कफ निकलकर आधाशीशी का नाश होता है।

1. Grind dry root of beel tree with a little water to prepare paste. Applying this thick paste on the forehead provides relief in headache.
2. Grind about 6 grams beel with water or goat’s milk and drink it regularly for 10 days. Its use stops headache.

1.Excessive sweat in fever: Make the powder by grinding eaglewood, sandal and cobra’s saffron together thereafter boil it with water of cherry plum. This paste should be coated on the affected part because it provides relief in excessive sweat.
2.Burning sensation: The patient should rub powder of eagle wood on the body to get relief in burning sensation.


 
1. दस्त में : आम की गिरी का चूर्ण 2 चम्मच, अफीम लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग मिलाकर एक चौथाई चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार सेवन कराएं।
2.कमर का दर्दं : एक चम्मच पोस्त के दानों को समान मात्रा में मिश्री के साथ पीसकर एक कप दूध में मिलाकर दिन में 3 बार सेवन करने से लाभ होगा।
3. गला खराब होने पर : अजवायन और अफीम के डोडे समान मात्रा में पानी में उबाकर छान लें और फिर छाने हुए पानी से गरारे करने से स्वरदोष में आराम होगा।

1.Headache: Crush half gram opium with one ml milk of nutmeg and apply it on the forehead or mix half gram opium with two cloves powder and coat it on the forehead after make light hot. Using this process ends headache caused by cold and flatulence (Baadi).

1.Asthma:Fill powder of dried leaves of Malabar nut in hubble-bubble and smoke with it, it provides very relief in asthma.
2. Cough and breathing problems: Mix equal quantity of Malabar nut leaves’ juice and honey together thereafter give 2 spoons of this mixture to the patient thrice a day, it can cure cough and breathes diseases.

1. बबूल की फली के छिलके और बादाम के छिलके की राख में नमक मिलाकर मंजन करने से दांत का दर्द दूर हो जाता है।
2. बबूल की कोमल टहनियों की दातून करने से भी दांतों के रोग दूर होते हैं और दांत मजबूत हो जाते हैं।
3. बबूल की छाल, पत्ते, फूल और फलियों को बराबर मात्रा में मिलाकर बनाये गये चूर्ण से मंजन करने से दांतों के रोग दूर हो जाते हैं।
4. बबूल की छाल के काढ़े से कुल्ला करने से दांतों का सड़ना मिट जाता है।


1.हकलाहट, तुतलापन : बच्चे को 1 ताजा आंवला रोजाना कुछ दिनों तक चबाने के लिये दें। इससे जीभ पतली, आवाज साफ, हकलाना और तुतलापन दूर होता है।.
•हकलाने और तुतलाने पर कच्चे, पके हरे आंवले को कई बार चूस सकते हैं।
2.खून के बहाव : स्राव वाले स्थान पर आंवले का ताजा रस लगाएं, स्राव बंद हो जाएगा।
3.वीर्यवृद्धि : एक चम्मच घी में दो चम्मच आंवले का रस मिलाकर दिन में 3 बार कम-से-कम 7 दिनों तक ले सकते हैं।

1.Cataract: Heat one liter juice of Indian gooseberry fruits and mix 50 grams ghee and 50 grams honey in it. Cataract is cured by applying it in the eyes.
2.Hair falling (alopecia): Make a paste by grinding pulp of Indian gooseberry fruit and mango seeds (without peel) with the water. After that, apply it on the head to cure alopecia.

1.मोतियाबिंद : एक लीटर आमलकी फलों का रस लें। इसे गर्म कर लें और 50 ग्राम घृत (घी) और 50 ग्राम मधु (शहद) मिला लें। इसे आंखों में लगाने से मोतियाबिंद ठीक हो जाता है।
2.बालों का झड़ना (गंजेपन का रोग) : आमलकी फल मज्जा और आम के बीज जिनका छिलका उतार दिया गया हो, पानी में लेप तैयार कर उपयोग में लाने से गंजेपन में लाभ होगा।

Pages