Treatment Tips

Ayurvedic treatment :

1.खांसी से बचने के लिए गाय के दूध का 15-20 ग्राम घी और काली मिर्च को एक कटोरी में लेकर हल्की आंच में गर्म करें। जब काली मिर्च गरम हो जाए तो उसे थोडा सा ठंडा करके उसमें लगभग 20 ग्राम पीसी मिश्री मिला लें। उसके बाद काली मिर्च निकालकर खाएं। दो-तीन दिन तक यह लेने से खांसी ठीक हो जाएगी।

उच्च रक्त चाप

1- कुछ दिनों तक लगातार आधा चम्मच मैथी दाना का पॉउड़र पानी के साथ लेने से उच्च रक्त चाप में लाभ होता है।

2- तुलसी के पाँच पत्ते और नीम के दो पत्ते कुछ दिनों तक लेने से उच्च रक्त चाप मे लाभ होता है।

माइग्रेन (आधे सिर में दर्द) रोग में रोगी व्यक्ति को कुछ दिनों तक तुलसी के पत्तों का रस शहद के साथ सुबह के समय में चाटना चाहिए तथा इसके अलावा दूब का रस भी सुबह के समय में चाट सकते हैं। जिसके फलस्वरूप माइग्रेन रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

माइग्रेन रोग (आधे सिर में दर्द) का इलाज करने के लिए पीपल के कोमल पत्तों का रस रोगी व्यक्ति को सुबह तथा शाम सेवन करने के लिए देने के फलस्वरूप माइग्रेन रोग कुछ ही दिनों में ठीक हो जाता है।

दस्त: जौ और मूंग का पसावन बनाकर पीने से आंतों की जलन दूर होती है और अतिसार में लाभ होता है।
श्वास रोग: दमा में 6 ग्राम जौ की राख और 6 ग्राम मिश्री दोनों को पीसकर सुबह-शाम गरम पानी से फंकी लेने से दमा (श्वास रोग) नष्ट हो जाता है।
लू का लगना: रोगी के शरीर पर जौ के आटे का लेप (उबटन) मलने से लाभ मिलता है।

1. मुंह के छाले : पान के पतों का रस शहद में मिलाकर छालों पर रोजाना 2-3 बार लगाने से लाभ होता है।

2. चोट : पान के रस में थोड़े से चूने को मिलाकर सूजन पर पट्टी बांधने से दर्द और सूजन कम होता है।

3. गला बैठने पर: पान की जड़ के टुकड़े को मुंह में रखकर 3-4 बार चूसते रहने से गले में बैठी आवाज खुल जाती है और गला साफ हो जाएगा।

Insomnia: Make a decoction by boiling aniseed in water. Mix milk in it after filtering. Drink this mixture to get rid of insomnia.
Dyspepsia: Drink the decoction of aniseed leaves to get rid of dyspepsia and makes the digestion active. It is also beneficial for women because it increases milk in the milk.
Constipation:  Take the pulp of beel fruit mixing with aniseed. Its use gets rid of constipation and makes the stomach clean. It also increases appetite.

1. Anuria and dysuria: Soak 5 almond kernels in water and then peel them. Mix 7 small cardamoms and sugar-candy (According to taste) with these kernels. Grind this mixture and dissolve in one glass of water. Taking this mixture twice a day provides relief.

1. खांसी : पके हुए सेब का रस 1 गिलास निकालकर मिश्री मिलाकर सुबह के समय पीते रहने से पुरानी खांसी में लाभ होता है।
2. हाई बल्डप्रैशर : हाई बल्डप्रैशर होने पर 2 सेब रोज खाने से लाभ होता है।
3. लीवर को मजबूत करना : लीवर (जिगर) के रोगों में सेब का सेवन फायदेमंद है। इससे लीवर (जिगर) को शक्ति मिलती है।

1. हिचकी : तुलसी के पत्तों का रस 2 चम्मच और शहद 1 चम्मच मिलाकर दिन में 3 बार सेवन करने से हिचकी दूर होती है।
2. कान का दर्द : तुलसी के पत्तों के रस को हल्का गर्म करके थोड़ा सा कपूर मिलाकर कान में 2-3 बूंद डालने से कान का दर्द समाप्त होता है।
3. दाद : तुलसी के पत्तों का रस दाद पर लगाने से दाद ठीक होता है।

1. नमक के साथ पके अमरूद खाने से आराम मिलता है।
2. अमरूद के पेड़ के कोमल 50 ग्राम पत्तों को पीसकर पानी में मिलाकर छानकर पीने से लाभ होगा।
3. अमरूद के पेड़ की पत्तियों को बारीक पीसकर काले नमक के साथ चाटने से लाभ होता है।

Pages